महासमुंद लोकसभा क्षेत्र से एक ही नाम के 10 लोगो ने लड़ा चुनाव

छत्तीसगढ़ के महासमुंद लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को भाजपा के चंदू लाल साहु ने 1217 मतों के छोटे अंतर से मात दे दी।
आश्चर्य कर देने वाली बात ये है कि है दूसरे उपविजेता , तृतीय उपविजेता और यहां तक कि चौथे उपविजेता सबका नाम चंदू लाल साहू है और सभी निर्दलीय उम्मीदवार हैं. दूसरे उपविजेता रहे चंदू लाल साहू को 20255 वोट मिले वही तृतीय उपविजेता चंदू लाल साहू को भी 12308 वोट मिले और चौथे उपविजेता रहे एक और चंदू लाल साहू भी 10797 वोट लेने मे कामयाब हुए।
इस लोकसभा क्षेत्र से चंदू लाल साहू नाम के 8 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा था और साथ ही चंदू राम साहू नाम के 3 उम्मीदवारों ने भी नामांकन किया था और मोती लाल साहू नाम के भी 2 उम्मीदवार थे।
e;
भाजपा ने अजीत जोगी पर आरोप लगाया था कि ये सब कुछ अजीत जोगी कि करतूत थी चुनाव जीतने के लिए। भाजपा ने अप्रैल में चुनाव आयोग से इसकी शिकायत दर्ज कराई थी और चुनाव आयोग से आग्रह किया था कि बाकी के चंदू लाल साहू नाम के उम्मीदवारों का नामांकन रद्द कर दी जाए। राज्य के भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया था कि बाकी के 10 हमनाम उम्मीदवारों ने एक ही दिन पर्चा भरा था और उन्होने ये भी कहा था कि ये भाजपा उम्मीदवार को हराने कि साजिश रची गयी थी।
कुछ इसी तरह का मामला उत्तर प्रदेश के मथुरा और सुल्तानपुर मे भी हुआ था। मथुरा मे भाजपा प्रत्याशी हेमा मालिनी के खिलाफ उनकी हमनाम निर्दलीय उम्मीदवार हेमा मालिनी भी मैदान मे थीं  जो की 10 हज़ार से ज्यादा वोट लेने मे कामयाब हुई थी और पांचवे स्थान पर रही थीं ।  वहीं सुल्तानपुर मे भाजपा के वरुण गांधी के खिलाफ दुसरे वरुण गांधी निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पे चुनाव लड़े और 14 हज़ार से ज्यादा वोट लेने मे कामयाब हुये।