‘’आप’’ ने राजनीति के खेल से बचाया देश को.

इमरान खाँन.

अलीगढ्: आजादी से लेकर आज तक देश की जनता राजनीति के खेल मे दबती चली आ रही थी.इन 66 सालो से देश की जनता को जाग्रुक करने का काम आप पार्टी ने किया.आम आदमी पार्टी भ्रस्टाचार के खिलाफ दो वर्षो तक चले लंबे संघर्ष के बाद बनी है.आप का जन्म अन्य पार्टीओ की तरह सत्ता पाने के लिये नही हुआ बल्की देश से भ्रस्टाचार दूर करने और सभी धर्मो के बीच अमन चैन और बराबरी कायम करने के लिये हुआ है. आम आदमी पार्टी ने बहुत कडी मेहनत के बाद सफल्ता के कदम को चूमा. दिल्ली मे विधान सभा चुनाव परिणाम आते ही आम आदमी पार्टी को मिली 28 सीटो की विजयी से यह सिध्द हो गया के दिल्ली की जनता अब कुछ बदलाओ चाहती है.जिस तरह आप ने कांग्रेस को अपने चुनावी चिन्ह झाडू से साफ कर दिया है इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है की आप पार्टी 2014 लोकसभा चुनावो मे कांग्रेस के लिये मुसीबत बन सकती है.उधर पिछ्ली विधान सभा(2008) के मुकाबले इस विधान सभा (2013) मे भाजपा सरकार ने कोई अच्छा परिणाम हासिल नही किया है.अगर आम आदमी पार्टी इस विधान सभा मे नही होती तो भाजपा को फिर अपना मुह देखना पढता.और कांग्रेस फिर जीत जाती.पिछ्ले 15 सालो से दिल्ली सरकार को चलाने का काम शीला दिक्षित ने किया ये एक इतिहास बन गया.लेकिन शीला के समय मे आम आदमी को एक वकत का खाना नशीब होना मुश्किल पढ गया.शीला दिक्षित ने दिल्ली मे बिजली इतनी महंगी कर दी के आम आदमी को बिजली के बिल को भरना नामुमकिन हो गया.कांग्रेस ने देश मे कानून व्यवस्था,अच्छी व मुफ्त मे शिक्षा,बिजली,अस्पाताल,जैसी व्यवस्थाओ को भंग कर दिया था.हर चीज मे महंगाई का फेर कर दिया था.लेकिन आम आदमी पार्टी को आज पूरे देश के लोग बोल रहे है की नीयत साफ है.और दूसरी पार्टीओ की नियत खराब है.अगर भाजपा व कांग्रेस की सरकार बनती है तो देस लुटता आया है और देस लुटता रहेगा.दंगे होते रहेंगे.इन दोनो पार्टीओ के बीच मे आम आदमी पिसते रहेंगे.लेकिन अगर आम आदमी पार्टी की सरकार बनती है तो देश से भ्रस्टाचार दूर होगा और सभी धर्मो के बीच अमन चैन कायम करने का एक इमान दार प्रयास किया जायेगा.